राज्य

जहां एक ओर इस वक्त पूरा देश महामारी का दंश झेल रहा है और ऑक्सीजन की भारी कमी का सामना कर रहा है, वहीं दूसरी ओर मुंबई के मलाड में रहने वाला एक शख्स जरूरतमंदों के लिए फरिश्ता बन गया है. मुंबई के रहने वाले शाहनवाज शेख ने मौत की गोद में समा रहे लोगों को एक नई जिंदगी देने की अनोखी पहल शुरू की है, जिसकी हर ओर सराहना हो रही है. शाहनवाज ने बताया कि लोगों की मदद करने के लिए उन्होंने कुछ दिनों पहले अपनी 22 लाख रुपये की SUV बेच दी. अपनी फोर्ड एंडेवर गाड़ी को बेचने के बाद उन्हें जो पैसा मिला, उन पैसों से शाहनवाज ने जरूरतमंदों के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर खरीद लिए.

photostudio_1606581649738
photostudio_1601020483281 (1)
advertising-word-block
VIGYAPAN
IMG-20210302-WA0056
IMG_20210303_184058_612

Possitive News

मुंबई

पूरा देश इस समय कोरोना महामारी (Corona Pandemic) की गंभीर स्थिति का कहर झेल रहा है. रोजाना न जाने कितने ही लोग अपनों को अपनी ही आंखों के सामने मजबूरन दम तोड़ते देख रहे हैं. किसी को समय पर इलाज नहीं मिल रहा तो किसी के लिए ऑक्सीजन की कमी जिंदगी का संकट बनी हुई है. जहां एक ओर इस वक्त पूरा देश महामारी का दंश झेल रहा है और ऑक्सीजन की भारी कमी का सामना कर रहा है, वहीं दूसरी ओर मुंबई के मलाड में रहने वाला एक शख्स जरूरतमंदों के लिए फरिश्ता बन गया है.
मुंबई के रहने वाले शाहनवाज शेख ने मौत की गोद में समा रहे लोगों को एक नई जिंदगी देने की अनोखी पहल शुरू की है, जिसकी हर ओर सराहना हो रही है

दरअसल, शाहनवाज शेख एक फोन कॉल पर कोरोना मरीजों तक ऑक्सीजन पहुंचाने का काम कर रहे हैं. लोगों की मदद की लिए तैनात उनकी टीम ने इसको लेकर एक ‘कंट्रोल रूम’ भी बनाया है, जिससे कि मरीजों को समय पर ऑक्सीजन मिल सके और संकट की इस घड़ी में उन्हें दर दर की ठोकरें न खानी पड़े. अपने इस नेक काम की वजह से शाहनवाज को अब ‘ऑक्सीजन मैन’ के नाम से जाना जाने लगा है.
शाहनवाज ने बताया कि लोगों की मदद करने के लिए उन्होंने कुछ दिनों पहले अपनी 22 लाख रुपये की SUV बेच दी. अपनी फोर्ड एंडेवर गाड़ी को बेचने के बाद उन्हें जो पैसा मिला, उन पैसों से शाहनवाज ने जरूरतमंदों के लिए 160 ऑक्सीजन सिलेंडर खरीद लिए. शाहनवाज ने कहा कि पिछले साल लोगों की मदद करने के दौरान उनके पैसे खत्म हो गए, जिसके बाद उन्होंने अपनी SUV कार बेचने का फैसला लिया.
जब शहनवाज से पूछा गया कि उन्हें लोगों की मदद करने की प्रेरणा कहां से मिली, तब उन्होंने बताया कि पिछले साल उनके एक दोस्त की पत्नी ने ऑक्सीजन की कमी की वजह से ऑटो रिक्शा में ही दम तोड़ दिया था. जिसके बाद उन्होंने फैसला किया कि वो जरूरतमंदों की मदद करेंगे और मुंबई में मरीजों तक ऑक्सीजन पहुंचाने का काम करेंगे.
‘ऑक्सीजन मैन’ (Oxygen Man) ने बताया कि तुरंत मरीजों तक मदद पहुंचाने के लिए उनकी ओर से एक हेल्पलाइन नंबर भी शुरू किया गया है. शाहनवाज ने बताया कि पिछले साल की तुलना में इस साल स्थितियां ज्यादा विकट हैं. जहां जनवरी में ऑक्सीजन की डिमांड के लिए उन्हें 50 फोन आते थे, वहीं आजकल 500 से 600 फोन रोजाना आ रहे हैं. आलम यह है कि अब हम केवल 10 से 20 फीसदी लोगों तक ही मदद पहुंचाई जा पा रही है.
शाहनवाज ने बताया कि उनके पास फिलहाल 200 ऑक्सीजन सिलेंडर हैं. इसमें से 40 ऑक्सीजन सिलेंडर रेंट के हैं. उन्होंने बताया कि फोन करने वाले जो जरूरतमंद लोग यहां आकर ऑक्सीजन सिलेंडर (Oxygen Cylinder) लेने में सक्षम नहीं होते, उन्हें हम घर तक सिलेंडर पहुंचाने के लिए जाते हैं. शाहनवाज ने बताया कि वो पिछले साल से लेकर अब तक लगभग 4,000 जरूरतमंदों की मदद कर चुके हैं.

Source 22-04-2021

Related Articles

Back to top button
Close
Close