ताजा ख़बरें

साउथ अफ्रीका में पाया गया कोरोना वायरस का नया वेरिएंट ‘ओमिक्रॉन’के खतरे के बीच कर्नाटक से एक बुरी खबर आई है. दरअसल, कर्नाटक में विदेश से आने वाले यात्रियों में से दो दक्षिण अफ्रीकी नागरिकों की कोविड रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. इस खबर ने कर्नाटक समेत पूरे देश की नींद उड़ा दी है.

VIGYAPAN
photostudio_1634614114400
photostudio_1633317682627
IMG-20211220-WA0000
photostudio_1641553606755
IMG-20220117-WA0083
IMG-20220116-WA0000

साउथ अफ्रीका में पाया गया कोरोना वायरस का नया वेरिएंट ‘ओमिक्रॉन’ (Omicron Variant) के खतरे के बीच कर्नाटक से एक बुरी खबर आई है. दरअसल, कर्नाटक में विदेश से आने वाले यात्रियों में से दो दक्षिण अफ्रीकी नागरिकों की कोविड रिपोर्ट पॉजिटिव आई है.

इस खबर ने कर्नाटक समेत पूरे देश की नींद उड़ा दी है. दोनों संक्रमितों के सैंपल को जांच के लिए भेज दिया गया है.

बेंगलुरु ग्रामीण क्षेत्र के उपायुक्त के श्रीनिवास ने शनिवार को कहा कि आगे की जांच रिपोर्ट से यह पता चलेगा कि क्‍या दक्षिण अफ्रीकी नागरिक कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित हैं. टेस्‍ट की रिपोर्ट आने में 48 घंटे का समय लगेगा.

संक्रमण के बढ़ते मामलों और नए स्वरूप के मद्देनजर सतर्क रहें: WHO

कोरोना वायरस संक्रमण के नए स्वरूप का पता चलने और कई स्थानों पर संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी के मद्देनजर विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने दक्षिणपूर्वी एशिया क्षेत्र के देशों से शनिवार को कहा कि वे सतर्कता बढ़ाएं और जन स्वास्थ्य सेवा एवं सामाजिक उपायों को मजबूत करें. डब्ल्यूएचओ ने कहा कि उत्सवों और समारोहों में सभी एहतियाती उपाय किये जाने चाहिए और भीड़भाड़ वाले स्थानों पर जाने से बचना चाहिए.

दक्षिण-पूर्व एशिया क्षेत्र के लिए डब्ल्यूएचओ की क्षेत्रीय निदेशक डॉ. पूनम खेत्रपाल सिंह ने कहा, ‘हमें किसी भी कीमत पर सतर्कता कम नहीं करनी है.’ उन्होंने एक बयान में कहा, ‘हमारे क्षेत्र के अधिकतर देशों में कोविड-19 के मामलों में कमी आई है, लेकिन दुनिया के अन्य देशों में मामलों में बढ़ोतरी हुई है और नए चिंताजनक स्वरूप की पुष्टि लगातार बने हुए जोखिम की याद दिलाती है तथा वायरस से बचाव करने और इसे फैलने से रोकने के लिए हमें हमारे सर्वश्रेष्ठ प्रयास जारी रखने की आवश्यकता है.

सिंह ने कहा कि देशों को सतर्कता बढ़ानी चाहिए. उन्होंने कहा कि संक्रमण को रोकने के लिए व्यापक और आवश्यता के अनुरूप सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवाएं और सामाजिक उपाय जारी रखने चाहिए. उन्होंने कहा कि सुरक्षात्मक कदम जितने जल्दी लागू किए जाएंगे, देशों को उतने ही कम प्रतिबंधात्मक कदम उठाने पड़ेंगे.
सिंह ने कहा, ‘कोविड-19 जितना फैलेगा, वायरस को उतना ही स्वरूप बदलने का अवसर मिलेगा और वैश्विक महामारी उतनी ही अधिक देर तक रहेगी.’

उन्होंने कहा कि लोगों को जो सबसे महत्वपूर्ण कदम उठाना चाहिए, वह है-वायरस के संपर्क में आने के जोखिम को कम करना. उन्होंने कहा कि इसके लिए लोगों को मास्क पहनना चाहिए, उचित दूरी बनाकर रखनी चाहिए, भीड़भाड़ वाले स्थानों पर जाने से बचना चाहिए, हाथों को साफ रखना चाहिए, खांसते या छींकते समय मुंह को ढकना चाहिए और टीकाकरण कराना चाहिए.

Source 28-11-2021

Related Articles

Back to top button
Close
Close