विदर्भ की ताजा खबर

विशाखा भंसाली (लंडन) की हरीना अस्पताल को भेंट , नेत्रदान के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य से अमरावती ही नहीं अपितु राज्य भर में प्रसिद्ध हरीना फौउडेशन के द्वारा संचालित नेत्र अस्पताल को लंडन निवासी विशाखा भंसाली व उनके परिवार के सदस्यों ने भेंट दी

VIGYAPAN
photostudio_1634614114400
photostudio_1633317682627
IMG-20211220-WA0000
photostudio_1641553606755
IMG-20220117-WA0083
IMG-20220116-WA0000

*विशाखा भंसाली (लंडन) की हरीना अस्पताल को भेंट*

नेत्रदान के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य से अमरावती ही नहीं अपितु राज्य भर में प्रसिद्ध हरीना फौउडेशन के द्वारा संचालित नेत्र अस्पताल को लंडन निवासी विशाखा भंसाली व उनके परिवार के सदस्यों ने भेंट दी. विशाखा भंसालीजी ने अस्पताल में नेत्र जांच प्रकिया व मशीनों के संबंध में जानकारी प्राप्त की. हरीना फौउंडेशन के उपाध्यक्ष श्री रामप्रकाशजी गिल्डा ने विशाखाजी का सम्मान किया व बताया कि विशाखाजी ने हरीना के प्रमुख कार्यक्रम १० जून विश्व नेत्रदान दिन की *एहसास करें नेत्रहीनों का दर्द* इस थीम को सोशल मिडिया के माध्यम से कई देशो तक प्रसारित किया। हरीना के कार्यों को विश्व पटल पर लाने का प्रथम प्रयास सफल रहा। १० जून विश्व नेत्रदान दिन के संयोजक सारंग राऊत ने विशाखाजी का विदेशों से बड़ी संख्या में प्रतिभागी सम्मिलित कराने पर आभार व्यक्त किया। हरीना के नेत्रदान अवयवदान व देहदान के संपन्न कार्यक्रमों की जानकारी अशोक राठी ने रखी. अपने सम्मान पर बोलते हुए विशाखाजी ने कहा कि ब्रिटेन में स्वास्थ्य सेवाएं बहुत महंगी है। भारत में दिनों दिन स्वास्थ्य सेवाएं बेहतर हो रही है पर देश में नेत्रहीनों को नेत्रों की बहुत जरुरत है। इसलिए हरीना द्वारा यहां किए जा रहे सेवा कार्य बहुत प्रशंसनीय है। साधन संपन्न लोग निस्वार्थ भाव से जरुरतमंदों की सेवा कर रहे हैं यह मानवता की सच्ची सेवा है। हरीना के सभी सदस्यों ने जनहित के विषयो पर विशाखाजी के सहयोग पर उनका आभार व्यक्त किया। आनंद की बात है कि विशाखा हरीना से जुड़े भंसाली ज्वेलर्स के राजेन्द्र भंसालीजी की पुत्रवधू है। इस कार्यक्रम का संचालन सचिव राजेंद्र वर्मा ने किया। सभा में विशाखाजी के हाथों से हरीना के देहदान समिति संयोजक श्री कमलकिशोरजी मालानी को मानवाधिकार सुरक्षा संगठन में राज्य कोषाध्यक्ष बनने पर पुष्पगुच्छ देकर सम्मानित किया गया। इस अवसर‌ चंद्रकांत पोपट, शरद कासट, सुरेन्द्र पोपली, रश्मि नांवदर, राजेन्द्र भंसाली, प्रा मुकेश लोहिया, प्रशांत राठी, अमित भंसाली भी उपस्थित थे।

Related Articles

Back to top button
Close
Close