अपराधखेलताजा ख़बरेंदेशधर्मप्रतियोगिता ओर Contestमनोरंजनराजनीतिराज्यविदर्भ की ताजा खबरविश्वशिक्षास्वास्थ्य

अब रेलवे यात्रियों को घर से स्टेशन तक सामान ढोने की पेरशानी से निजात मिल पाएगी। रेलवे ने यात्रियों के लिए एक नई सुविधा शुरू की है, जिसके माध्यम से लोगों का सामान घर से सीधे ट्रेन की बर्थ तक पहुंचाया जाएगा। भारतीय रेलवे की इस सेवा को ‘एंड टू एंड लगेज सर्विस ‘नाम दिया गया

VIGYAPAN
IMG-20211220-WA0000
photostudio_1633317682627
photostudio_1664351103597
IMG-20221004-WA0332
IMG_20220927_150515_046
IMG-20221019-WA0027
IMG_20221016_174312_421
IMG_20221015_134301_759

नई दिल्ली

अब रेलवे यात्रियों को घर से स्टेशन तक सामान ढोने की पेरशानी से निजात मिल पाएगी। रेलवे ने यात्रियों के लिए एक नई सुविधा शुरू की है, जिसके माध्यम से लोगों का सामान घर से सीधे ट्रेन की बर्थ तक पहुंचाया जाएगा। भारतीय रेलवे की इस सेवा को ‘एंड टू एंड लगेज सर्विस ‘नाम दिया गया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के डिजिटल इंडिया के मार्ग पर भारतीय रेलवे मजबूती के साथ कदम बढ़ा रहा है। जिसके चलते रेलवे यात्रियों का सफर सुविधाजनक बनाने के लिए कई नवाचार कर रहा है। ‘एंड टू एंड लगेज सर्विस ‘की अहमदाबाद में शुरुआत हो चुकी है। पश्चिमी रेलवे के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से एक ट्वीट किया गया।

इसमें लिखा गया, ‘पश्चिमी रेलवे ने अहमदाबाद रेलवे स्टेशन पर ‘बुक बैगेज डॉट कॉम ‘ द्वारा एंड टू एंड लगेज/पार्सल सेवा ‘की शुरुआत की। उम्मीद की जा रही है कि अन्य रेलवे स्टेशनों पर भी यह सेवा जल्द उपलब्ध हो जाएगी। इस सेवा के आने से उन लोगों को सहूलियत होगी, जो यात्रा के दौरान अधिक सामान लेकर चलते हैं। इसका शुल्क सामान के आकार और वजन पर निर्भर करेगा।

भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम (आईआरसीटीसी) अगले महीने से अपनी ई-खानपान सेवाओं को फिर से शुरू करेगा, जो यात्रियों के लिए एक बड़ी राहत की बात है। कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए लगाए गए लॉकडाउन के कारण 22 मार्च, 2020 को ई-खानपान सेवाओं को स्थगित कर दिया गया था। इस संबंध में आईआरसीटीसी की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि रेल मंत्रालय की अनुमति मिलने के बाद आईआरसीटीसी फरवरी से चरणबद्ध तरीके से ई-खानपान सेवाओं को फिर से शुरू करने के लिए तैयार है। शुरू में लगभग 250 रेलगाड़ियों के लिए लगभग 30 रेलवे स्टेशनों पर सेवाएं शुरू की जाएंगी।

Related Articles

Back to top button
Close
Close